2023 में कंटेंट क्रिएशन के बेस्ट '13 टूल्स' - Content Creation Tools

Fixed Menu (yes/no)

2023 में कंटेंट क्रिएशन के बेस्ट '13 टूल्स' - Content Creation Tools

  • क्या आपके आर्टिकल में ढेर सारे नंबर और आंकड़े हैं? ऐसे में पहले आपको इसे सिर्फ टेक्स्ट के माध्यम से ही दिखलाने के लिए मजबूर होना पड़ता होगा, पर अब यह आसान है
  • जब भी आप एक बड़ा कंटेंट पीस लिखते हैं, तो उसमें स्पेलिंग की गलतियां होनी स्वभाविक है। उसका ग्रामर चेक करना हो, सेंटेंस फॉरमेशन चेक करनी हो, तो...

13 Content Creation Tools for Best Results in 2023

लेखकमिथिलेश कुमार सिंहनई दिल्ली 
Published on 13 Jan 2023

'कंटेंट इज किंग' यह कथन पुराना होने के बावजूद भी बेहद रिलेवेंट है। इंटरनेट की दुनिया में आज शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा, जो कंटेंट की इंपॉर्टेंस ना समझता हो!
हकीकत तो यह है कि बिना कंटेंट के ना तो मार्केटिंग संभव है और ना ही सेल्स! अर्थात Content is King एक पूर्णतः सजीव स्टेटमेंट है।

आज के समय में जो भी बड़ी- बड़ी कंपनियां रातों-रात खड़ी हो रही हैं, उसमें कंटेंट की बहुत बड़ी भूमिका है। 

जैसा कि आप सभी जानते हैं, कंटेंट के बहुत सारे फॉर्मेट भी हैं, जैसे Text Format Content, अर्थात लिखने वाले कंटेंट के रूप में, पढ़े जाने वाले कंटेंट के रूप में तो पिक्चर्स (Infographics, Content in Images Format/ Presentation Format) के रूप में भी कंटेंट बड़ी तेजी से अपनी जगह बना चुका है। 

कहते भी हैं कि एक तस्वीर 1000 शब्दों के बराबर होती है! ऐसे में तस्वीर भी अपने आप में Powerful Content है, और सबसे आगे बढ़कर वीडियो फॉर्मेट का कंटेंट (Content in Video Formats) तो पूरी दुनिया पर छाता ही जा रहा है। 

जरा सोचिए! मोबाइल पर कब स्क्रोलिंग करते हुए आपको घंटो बीत जाते हैं, और उस समय आप कंटेंट ही तो कंज्यूम करते हैं!

ऐसे में कंटेंट के क्षेत्र में बहुत सारे जॉब्स के भी ऑप्शन क्रिएट हुए हैं, और इस अपॉर्चुनिटी को फुलफिल करने के लिए कंटेंट रायटर्स की रिक्वायरमेंट (Content Writers Requirement) भी बहुत बढ़ी है। 

ऐसे में क्या आप भी प्रोफेशनली कंटेंट लिखना चाहते हैं? (You can start Professional Content Writing)

अगर प्रोफेशनली नहीं भी लिखना चाहते हैं, तो शौकिया तौर पर आप इसे लिखने की शुरुआत कर सकते हैं। 

इसके लिए आज हम आपको बताएंगे कुछ बेहतरीन टूल्स जो आपके Content Writing में चार चांद लगा देंगे। 

आगे बढ़ने से पहले आपको बता दें कि अगर आप अपनी कंपनी के लिए, अपने किसी प्रोडक्ट के लिए किसी भी फॉर्मेट में अर्थात टेक्स्ट, इमेज, वीडियो फॉर्मेट में एक या अधिक कंटेंट चाहते हैं, तो हमसे भी संपर्क कर सकते हैं।

आर्टिकल पीडिया के माध्यम से हम ना केवल  हिंदी लैंग्वेज में, बल्कि English, Tamil, Marathi, Gujarati, Bengali जैसी भाषाओं में प्रोफेशनल कंटेंट उपलब्ध कराते हैं। 

अब चलिए देखते हैं उन टूल्स के बारे में जो 2023 में कंटेंट राइटिंग में आपको बड़ी सहायता देने वाले हैं। 

1. गूगल कीवर्ड प्लानर (Google Keyword Planner)

यह पूरी तरह से फ्री टूल है, और जैसे ही आप गूगल में Google Keyword Planner कीवर्ड सर्च करेंगे आपको इसका लिंक मिल जाएगा। इस लिंक पर क्लिक करते ही अगर आपके पास पहले से गूगल ऐड (Google Ads) का अकाउंट नहीं है, तो यह कुछ बेसिक इनफॉरमेशन आपसे मांगेगा, और उसके बाद आप गूगल कीवर्ड प्लानर पर पहुंच जायेंगे। 

यहां पर सिंपली आपको कोई कीवर्ड डालना है, जैसे कि Content Writers in Delhi या फिर अगर आपका कोई प्रोडक्ट है, तो आप उससे संबंधित Search Keywords को डाल सकते हैं, और उस से रिलेटेड किस कीवर्ड पर कितनी सर्च आ रही है, एवरेज मंथली सर्च क्या है, इसकी पूरी डिटेल आ जाएगी। 


आप अगर किसी ऑर्गेनाइजेशन के लिए कंटेंट राइटिंग करते हैं, तो उसको किस कीवर्ड से फायदा होगा, वह आपको जरूर एक बार सर्च कर लेना चाहिए, ताकि आप बेहतरीन रिजल्ट डिलीवर कर पाएं। 

आपको गूगल कीवर्ड प्लानर का ठीक ढंग से अध्ययन करने भी आना चाहिए ताकि आप कंटेंट राइटिंग का बेहतरीन फायदा उठा सकें। 

यह टूल वैसे तो काफी है, लेकिन आप और भी रिसर्च करना चाहते हैं और डीप में जाना चाहते हैं, तो आप दूसरे पेड सर्विसेज को भी ले सकते हैं, जिसमें Semrush, Moz आदि शामिल हैं। इसमें आप और भी बेहतरीन तरीके से ऑर्गेनिक सर्च कीवर्ड, मैजिक टॉपिक आदि रिसर्च कर सकते हैं। 

हालांकि अगर आप प्रॉपर ढंग से सर्च करते हैं, तो गूगल कीवर्ड प्लानर (Google Keyword Planner) ही आपको बेहतरीन परिणाम दे सकता है। 

Professional / Result-Oriented Content Writing के लिए हमें अभी बताएं, Click here...!!

2. Also Asked 

अधिकतर कंटेंट राइटर जो गलतियां करते हैं, वह यह है कि कंटेंट लिखने से पहले वह रिसर्च नहीं करते हैं, कि उन्हें क्या लिखना चाहिए। ऐसे में वह बस लिखना शुरू कर देते हैं, और परिणाम अपेक्षाकृत वह नहीं आता, जो क्लाइंट्स चाहते हैं। 

ध्यान रखिए आपका कंटेंट लोगों तक गूगल के माध्यम से ही पहुंचता है। ऐसे में अगर आप आगे की तरफ बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको इन इन टूल्स को स्टडी करना चाहिए, और इनसे फायदा उठाना आना चाहिए।

ऊपर गूगल कीवर्ड प्लानर बताया गया है, और यहाँ गूगल का People Also Ask फीचर आप समझ लीजिए। अगर आप गूगल में कोई सर्च करते हैं, तो आपको ऐड सेक्शन के नीचे People Also Ask करके दिख आएगा। यहां पर और भी मिलते जुलते कीवर्ड आपको मिल जाएंगे। 

ऐसे में उन Relevant Search Keywords को भी आप अपने आर्टिकल में इंक्लूड कर सकते हैं, या उसके हिसाब से आप कंटेंट तैयार कर सकते हैं। यह बेहद महत्वपूर्ण फीचर है। 

3. Google Trends

इसी प्रकार गूगल ट्रेंड्स भी है। trends.google.com पर आप अपनी सर्च को चेक कर सकते हैं, और यहां पर बेहतरीन ढंग से आपको रिलेटेड टॉपिक्स, रिलेटेड क्वेरीज मिल जाएंगी। 

क्षेत्रवार ढंग से क्या चीज ट्रेंड में चल रहा है, वह आपको मिल जाएगा। अपने सर्च रिजल्ट्स को आप डाउनलोड भी कर सकते हैं, और अपनी Content Srategy के माध्यम से चेक कर सकते हैं। आप चाहें तो पिछले महीने का, पिछले घंटे का भी, या 1 महीने, 2 महीने, 5 साल पहले या उससे पहले का आप चेक करना चाहें तो आप गूगल ट्रेंड्स को चेक कर सकते हैं, और यह आपको एक कंटेंट स्ट्रेटजी बनाने में काफी मदद कर सकता है। 

4. गूगल डॉक्स (Google Docs)

घबराइए मत, आप गूगल की दुनिया में, गूगल के टूल्स का कितना बेहतरीन प्रयोग करते हैं, इसका एक बेहद महत्वपूर्ण स्टेप है, गूगल डॉक्स। 

जब भी आप एक कंटेंट तैयार करते हैं, तो गूगल डॉक्स में तैयार करने की कोशिश कीजिए, क्योंकि यह दुनिया का सबसे प्यारा और इस्तेमाल किया जाने वाला कंटेंट क्रिएशन टूल है। 

वास्तव में गूगल डॉक्स कंटेंट लिखने और कोलाबरेशन को बहुत ही आसान बना देता है। मतलब कि एक ही गूगल डॉक में आपकी बहुत सारी टीम मेंबर कंटेंट लिख सकते हैं, एडिट कर सकते हैं, उस पर कमेन्ट कर सकते हैं। इसके लिए बस आपको docs.google.com पर जाना है।

इसमें मल्टीलिंगुअल वॉइस टाइपिंग भी आपको उपलब्ध है, जिसका प्रयोग आप आसानी से कर सकते हैं। 

5. ग्रामरली (Grammarly) 

ग्रामरली वास्तव में एक बढ़िया फ्रीमियम (Freemium) कंटेंट क्रिएशन टूल है, जो आपको अवश्य ही इस्तेमाल करना चाहिए। 

जब भी आप एक बड़ा कंटेंट पीस लिखते हैं, तो उसमें स्पेलिंग की गलतियां होनी स्वभाविक है। उसका ग्रामर चेक करना हो, सेंटेंस फॉरमेशन चेक करनी हो, तो ग्रामरली इस्तेमाल किया जाता है। ग्रामरली वास्तव में आपके इंग्लिश राइटिंग में सजेस्ट कर देता है, कि क्या सही है क्या गलत है। 

ऐसे में आप यह समझ लीजिए कि यह आपकी प्रॉब्लम को 70 - 80% तक हल कर देता है, आपकी लिखावट को करेक्ट कर देता है।
 
वैसे ग्रामरली (grammarly.com) फ्री में भी अवेलेबल है, किंतु आप इसका पेड वर्जन भी ले सकते हैं, जो आपको और भी वैल्युएबल इनपुट दे सकता है। हालाँकि, इसका फ्री टूल ही शुरुआत में आपकी काफी मदद करने में सक्षम है।

Professional / Result-Oriented Content Writing के लिए हमें अभी बताएं, Click here...!!

6. Headline Analyzer का इस्तेमाल करें 

वास्तव में देखा जाए तो हेड लाइन किसी भी कंटेंट का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है। अक्सर लोग हेड लाइन पढ़कर ही डिसाइड करते हैं कि वह आगे आर्टिकल पढ़ें या नहीं, वीडियो देखें या नहीं!

ऐसे में आपको हेड लाइन एनालाइजर जरूर इस्तेमाल करना चाहिए। इसका फ्री वर्जन आप आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं, फ्री वर्जन में आपको कहीं कोई समस्या नहीं आने वाली है। 

आपको साधारण रूप से साइन इन करना है, और आप अपने गूगल अकाउंट से इसे कर सकते हैं और हेडलाइंस स्टूडियो में जा सकते हैं। 
यहां पर जैसे ही आप अपने आर्टिकल की हेड लाइन डालेंगे, उसकी हेड लाइन एनालाइज रिपोर्ट आपको मिल जाएगा, साथ में SEO सजेशन भी मिलेगी। 

यहाँ आपको कई सारी सजेशन मिलेंगी, जैसे कि आप की हेडिंग में कितने इमोशनल वर्ड्स है, कितने उनका वर्ड काउंट है, कॉमन वर्ड से वर्ल्ड बैलेंस कितना है आदि। इसके अलावा SEO - Search Engine Optimization में अगर बात की जाए, तो उसकी क्वालिटी क्या है, कीवर्ड डेंसिटी कितना है, मंथली सर्च कितना आ रहा है, यह सारी चीज़ें आपके हेडिंग को एक इंपैक्टफुल हेडिंग (Impactful Headline) बनाने में काफी मददगार साबित होंगी। 

शुरू में आपको यह शायद थोड़ा कठिन लगे, लेकिन बाद में जब आपको अभ्यास हो जाएगा, तो आप बेहतर हेडिंग दे पाएंगे जो कि आपके बेहतर कंटेंट के लिए सूटेबल होगा। 

7. रिवाल्डो (Revoldiv)

यह वास्तव में एक जबरदस्त टूल है। आपके पास अगर कोई ऑडियो क्लिप है, या फिर आपके पास कोई वीडियो क्लिप है, तो आप उसे टेक्स्ट में कन्वर्ट कर सकते हैं, और डाउनलोड कर सकते हैं। 

जरा सोचिए, आपने कोई ऑडियो रिकॉर्ड कर ली वॉइस में, और उसको आपने Text Transcript में कन्वर्ट कर लिया, तो कितना आसान होगा कंटेंट तैयार करना। 

ऐसे में आप बहुत कम समय में बेहतरीन कंटेंट प्राप्त कर सकते हैं, और यह पूरी तरह से फ्री है। तो इस टूल को आप जरूर इस्तेमाल करें। 


8. कैन्वा (Canva)

इसका इस्तेमाल तो आप निश्चित तौर पर करते ही होंगे! 

इस लेख में ऊपर बताया गया है कि क्या कंटेंट लिखना है, उसके लिए आपको कीवर्ड रिसर्च करना चाहिए। 
उसके बाद उस कंटेंट को किस टूल में लिखना है, कैसे हेडिंग बनानी है, कैसे उसका ग्रामर सही करना है, इसकी जानकारी डिफरेंट टूल्स में दी गई है। 

अब अगर आपको उसका ग्राफ़िक्स बनाना है, तो कैनवा के फ्री वर्जन को आप आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं। यह ऐप बहुत सिंपल है इस्तेमाल करने में। अपने कंप्यूटर पर तो आपको बस canva.com टाइप करना है, और इसके माध्यम से आप इंफोग्राफिक, सोशल मीडिया क्रिएटिव, वीडियो थंबनेल्स, लोगो, रिपोर्ट आदि आसानी से बना सकते हैं। इन चीजों से आपका कंटेंट निश्चित तौर पर पावरफुल हो जायेगा।

इसके पास एक बड़ी स्टॉक फोटो की लाइब्रेरी भी है, तो डिफरेंट डिजाइन एलिमेंट भी हैं। इसे आप जरूर सीखिए क्योंकि, इसके बिना आप नहीं समझ पाएंगे कि कैसे आप अपने कंटेंट को सही तरीके से प्रजेंट करें। 

Professional / Result-Oriented Content Writing के लिए हमें अभी बताएं, Click here...!!

9. फ्री pik (Freepik)

ऐसा कौन सा कंटेंट है, जिसमें तस्वीरों की जरूरत नहीं पड़ती है भला! 

डेफिनेटली आपको तस्वीरों की जरूरत पड़ेगी ही, और वह तस्वीरें अगर कॉपीराइट फ्री हों, तब फिर बात ही क्या हो...
 
ऐसे में आप हर तरह की तस्वीर फ्री पिक (freepik.com) पर पा सकते हैं। इसी तरीके से आप पिक्सल (pexels.com) का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पिक्सेल में तो आप अपनी ओरिजिनल तस्वीरों को, वीडियोस को अपलोड भी कर सकते हैं, जिसे दुनिया भी फ्री में इस्तेमाल कर सके। 

लेकिन अगर आप चाहते हैं कि इनका आसानी से इस्तेमाल करें अपने कंटेंट को प्रभावशाली बनाने के लिए, तो आपको जरा भी चिंता करने की जरूरत नहीं है, आज ही इस्तेमाल कीजिए freepik या pexel को और अपने कंटेंट को पावरफुल बनाइए। 


10. फोटोपिया (Photopea)

बेहद शानदार ऑनलाइन टूल है, जो फोटोशॉप की psd फाइल के साथ-साथ, XCF, XD, Sketch, and CDR की फाइल को इसमें सपोर्ट करता है। आप कुछ कुछ ऐसा समझ लीजिए कि अगर आप अपने एडोबी का फोटोशॉप इस्तेमाल किया है, तो ऑनलाइन में यह उसी का लाइट वर्जन है, जिसमें डिफरेंट लेयर्स पर आप काम कर सकते हैं। 

अपनी PSD फाइल को आप यहाँ ओपन कर सकते हैं। यह बेहद शानदार टूल है, आप इसको जरूर इस्तेमाल कीजिए, क्योंकि यह बहुत आसान है, बहुत लाइट भी है। जो काम आप पहले फोटोशॉप में करते थे, वह आप यहां कर सकते हैं। 


11. डाटा रैपर (Datawrapper)

क्या आपके आर्टिकल में ढेर सारे नंबर और आंकड़े हैं?
ऐसे में पहले आपको इसे सिर्फ टेक्स्ट के माध्यम से ही दिखलाने के लिए मजबूर होना पड़ता होगा, पर अब यह आसान है।

आप अगर अपने आंकड़ों को ग्राफ के माध्यम से, चार्ट के माध्यम से दिखला सकें तो यह बेहद सुविधाजनक हो जायेगा। तो आप डाटा रैपर को फ्री में इस्तेमाल कर सकते हैं, और काफी हद तक इन आंकड़ों को एक Impressive Graphic में क्रिएट कर सकते हैं। यह आपके कंटेंट के इंपैक्ट को निश्चित तौर पर बढ़ा देगा, और फिर जबरदस्त ढंग से आप इसे अगले स्टेज पर ले जा सकते हैं। 

अगर आपने खूब मेहनत करके डेटा और आंकड़े इकट्ठा किए हैं, तो वह यूजर को भी उतने ही प्रभावी ढंग से दिखना चाहिए।  इसके लिए प्रयोग कीजिए डाटा रैपर का।
datawrapper.de

हालांकि आप  Piktochart और Infogram भी इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन डाटा रैपर आपके लिए सफिशिएंट है। 

Professional / Result-Oriented Content Writing के लिए हमें अभी बताएं, Click here...!!

12. इन शॉट (InShot)

वीडियो की चर्चा के बिना कंटेंट प्रभावी बनाने की चर्चा पूरी नहीं होगी। 

इसमें बेहद आसानी से इस्तेमाल किया जाने वाला इनशॉट ऐप आपके लिए बहुत उपयोगी है। यहाँ तक कि इसमें अगर आप पेड वर्जन नहीं भी लेना चाहते हैं, तो भी आप इसके ऐड वाले वर्जन को देखकर आसानी से बहुत सारे काम कर सकते हैं। बता दें कि ऐड देखने के बाद वाटरमार्क हट जाता है।

इसमें आप प्रोफेशनल वीडियो बना सकते हैं, दो वीडियो को जोड़ सकते हैं, नए ऑडियो और इमेज की सहायता से वीडियो को इम्पैक्टफुल बना सकते हैं। ग्राफिक ऐड करना हो, एनीमेशन ऐड करना हो, टेक्स्ट ऐड करना हो, वीडियो स्लो या फ़ास्ट करना हो, आप यह सारे काम इनशॉट में बेहद आसानी से कर सकते हैं। एक बार ट्राई कीजिए और अपने वीडियो कंटेंट को जबरदस्त बनाइए। 

13. यूट्यूब स्टूडियो (YouTube Studio) पर रखिए नजर

आखिर में हम आपको सलाह देंगे कि अगर आप वीडियो कंटेंट पर काम कर रहे हैं, तो यूट्यूब स्टूडियो के प्रत्येक भाग पर आप बारीक नजर रखें।

वह चाहे Youtube Studio का Dashboard हो, जिसमें आपको आपके चैनल का ओवरव्यू दिखता हो, अथवा यूट्यूब का कंटेंट का पार्ट हो, जिसमें आपके Video Content की परफॉर्मेंस दिखलाई गई हो, या फिर एनालिटिक्स पार्ट ही क्यों ना हो, जिसमें आप डिटेल में जाकर चेक कर सकते हैं कि आपका कंटेंट वास्तव में कितना काम कर रहा है, किस दिन कितने व्यूज आ रहे हैं, वॉच टाइम क्या है, कितने वीडियोस को कितनी देर तक आपका ऑडियंस देख रहा है, आदि आप देख सकते हैं। 

वास्तव में अगर वीडियो कंटेंट पर काम कर रहे हैं, तो आप अपने यूट्यूब स्टूडियो के डैशबोर्ड पर बारीकी से समय बिताना होगा और तब आप जान पाएंगे कि आपको आगे किस दिशा में जाना है। 

Professional / Result-Oriented Content Writing के लिए हमें अभी बताएं, Click here...!!

किसी वीडियो के लिए अगर आप Script लिखने का अभ्यास करना चाहते हैं, तो आपको यह लेख भी अवश्य ही पढना चाहिए।

ऊपर की जानकारी आपको कैसी लगी, कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए, और यह भी बताइए कि क्या वास्तव में यह आपके कंटेंट क्रिएशन जर्नी के लिए लाभकारी है या नहीं ?

साथ में यह भी बताइएगा कि, टेक्स्ट कंटेंट क्रिएट करने से लेकर ग्राफिक्स और वीडियो तक आपको यह कंटेंट पीस कितना उपयोगी लगा?

  • अच्छा लगे तो इस कंटेंट को शेयर करना भी मत भूलियेगा। 

लेखकमिथिलेश कुमार सिंहनई दिल्ली 
Published on 13 Jan 2023

अगर आपको 'आर्टिकल पीडिया' का यह लेख बढ़िया - उपयोगी लगा हो, तो आप Article Pedia Community के Whatsapp Group से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

Web Title: 2023 Content Creation Tools for Best Results in HIndi, Best tools for content creation in 2023 Premium Unique Content Writing on Article Pedia





अस्वीकरण (Disclaimer)
: लेखों / विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी है. Article Pedia अपनी ओर से बेस्ट एडिटोरियल गाइडलाइन्स का पालन करता है. इसके बेहतरी के लिए आपके सुझावों का स्वागत है. हमें 99900 89080 पर अपने सुझाव व्हाट्सअप कर सकते हैं.

क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / ऐप या दूसरे प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !


Post a Comment

0 Comments