ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान बरतें खानपान की 'ये सावधानियां'

कहते हैं कि मां का दूध शिशु के लिए अमृत के समान होता है।

किसी भी नवजात के लिए जन्म से लेकर 6 महीने तक स्तनपान करना किसी अनमोल उपहार से कम नहीं है। वहीं डॉक्टर का कहना है कि 6 महीने तक ब्रेस्टफीडिंग कराना माँ के लिए बहुत जरुरी होता है।

पहले के समय में दूध पिलाने वाली मां के लिए खानपान सम्बन्धी बहुत ही सख्त नियम हुआ करते थे। हालांकि अब के समय में इतनी सख्ती और संयम बरत पाना शायद संभव नहीं है, लेकिन अगर आप अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं तो ध्यान रखें निम्नलिखित बातें...

Avoid Food When Breastfeeding (Pic: medium)

 शराब और सिगरेट से दूरी


शराब और सिगरेट किसी भी मनुष्य के लिए बेहद नुकसानदेह है। यह ना केवल आपके फेफड़े और लीवर को खराब करते हैं, बल्कि इनके प्रभाव से आपके शरीर में और भी कई सारी बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। वहीं अगर आप मां हैं और ब्रेस्ट फीडिंग करा रही हैं तो इन चीजों से पूरी तरह से आपको दूर रहने की जरूरत है।

क्योंकि यह दोनों चीजें आपकी बॉडी में हारमोंस को प्रभावित करते हैं और आपके शरीर में बनने वाले दूध को भी प्रभावित किए बगैर नहीं रहते हैं। इसीलिए आप जब तक अपने बच्चे को दूध पिला रही हैं तब तक इन चीजों को तौबा कर दें।

गर्भनिरोधक गोलियां

कहा जाता है कि अगर कोई महिला अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करा रही है तो उसकी मां बनने की संभावना वैसे ही बेहद कम होती है। बावजूद इसके अगर आप अनचाहे गर्भ से बचने के लिए उपाय ढूंढ रही हैं तो इसमें आपको गर्भनिरोधक गोलियों के ऑप्शन के बारे में बिल्कुल नहीं सोचना चाहिए।

यह आपके और आपके बच्चे, दोनों के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है। ऐसे में आप गर्भनिरोध के दूसरे उपायों पर विचार कर सकती  हैं।

कॉफी

जैसा कि सभी जानते हैं कि कॉफी में बहुत ज्यादा मात्रा में कैफीन मौजूद होता है जो कि 1 तरीके से नशे का काम करता है। कॉफी के अत्यधिक सेवन से इंसान को नींद नहीं आने की समस्या हो सकती है। अगर आप भी ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान भारी मात्रा में कॉफी पीती हैं तो यह आदत आपको बदल लेनी चाहिए।

ध्यान रहे कि आपके दूध के माध्यम से कैफीन आपके नवजात बच्चे के शरीर में पहुंच सकता है और उसे भी नींद आने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए जितना संभव हो सके कॉफी से परहेज करें। 



लहसुन 

लहसुन के अंदर कुछ ऐसे एंजाइम होते हैं जो बच्चों के मुँह के स्वाद को बिगाड़ सकते हैं। इसीलिए कभी अगर आपको ऐसा महसूस हो कि आपका बच्चा दूध पीने में आनाकानी कर रहा है तो आपको डायरेक्ट लहसुन खाने से बचना चाहिए।

धूप से बचाव 

यह तो सभी जानते हैं कि तेज धूप में निकलने से हमारी बॉडी डीहाइड्रेट हो जाती है। यानी कि हमारे शरीर में पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में आपके शरीर में दूध बनने की प्रक्रिया पर भी बुरा असर पड़ता है।

इसीलिए अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं तो बहुत जरूरी ना हो तो धूप में जाने से बचें। अगर आपको धूप में जाना भी पड़े तो अपने बॉडी को कॉटन के कपड़ों से ढक कर जाएं।

दवाइयां

अगर ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर को अवश्य बताएं कि आप अपने बच्चों को दूध पिला रही हैं। अगर आपने डॉक्टर को ब्रेस्टफीडिंग के बारे में बताया है तो वो आपको उसी के हिसाब से दवाइयां सजेस्ट करेगा।

मसालेदार खाना

यूं भी आपको अत्यधिक मसालेदार खाने से परहेज करना चाहिए। ज्यादा मसालेदार खाने से आपको गैस की समस्या हो सकती है और आपका बच्चा भी इससे परेशान रह सकता है। इसलिए ब्रेस्टफीडिंग कराते समय कम मसाले वाला खाना खाएं।

मछली

दूध पिलाने वाली माँ को मछली खाने से भी मना किया जाता है। कहा जाता है कि मछली में पारा होता है जो बच्चे के मस्तिष्क के डेवलपमेंट में बाधा उत्पन्न करता है।

तो ये हैं वो चीज़ें जिन्हें हर दूध पिलाने वाली माँ को अपने खाने में शामिल करने से बचना चाहिए।

क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!


Web Title: Premium Hindi Content on Breastfeeding, Avoid Food When Breastfeeding In Hindi


WordPress.com

Post a comment

0 Comments