Fixed Menu (yes/no)

प्याज की खेती करके 'लाखों' कमाएं



नमस्कार दोस्तों आज की पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि प्याज की खेती कैसे करें.

दोस्तों बहुत सारे किसान प्याज की खेती करके लाखों रुपए कमा रहे हैं. प्याज की खेती एक मुनाफे की खेती है. यदि आप भी किसान हैं और प्याज की खेती करना चाहते हैं, तो आप भी प्याज की खेती कर सकते हैं. 

प्याज की खेती भारत के लगभग हर क्षेत्र में की जाती है, लेकिन अधिकांश तौर पर महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक इत्यादि राज्यों में इसकी खेती की जाती है. 
इस समय आप भी देख रहे होंगे कि प्याज की कीमत कितनी उछाल पर है, इसलिए प्याज की खेती मुनाफे का सौदा मानी जा सकती है.

तो आइए इस के बारे में हम आपको पूरी जानकारी देते हैं कि प्याज की खेती कैसे करें?

अच्छी मिट्टी का चुनाव

प्याज की खेती के लिए वैसे तो सभी प्रकार की मिट्टी अच्छी होती है, लेकिन दोमट मिट्टी, जो उपजाऊ हो, वह इसके लिए सबसे अच्छी मानी जाती है. हमें ध्यान देना होगा कि जिस खेत में प्याज लगाया जाना है, उस खेत में पानी का रुकाव या ठहराव ना हो.
पानी खेत से बह जाए, नहीं तो पानी खेत में रहने से फसल गल जाती है, अथवा सड़ने लगती है. 

प्याज की खेती के लिए सही समय

वैसे तो प्याज की खेती रबी तथा खरीफ दोनों समय में की जाती है, लेकिन रबी  में  प्याज की खेती अच्छी मानी जाती है. वैसे आप खरीफ के समय  में भी प्याज की खेती कर सकते हैं. वह भी अच्छा रहता है.

प्याज की अच्छी किस्म के बीज 

प्याज की खेती के लिए  प्याज के कुछ अच्छी किस्म की बीजों के कुछ प्रकार निम्नलिखित हैं.
  1. पूसा रेड
  2. पूसा रतनार
  3. एग्रीफाउंड लाइट रेड
  4. एग्रीफाउंड रोज
  5. पूसा वाइट राउंड
  6. पूसा वाइट फ्लैट
  7. एन-53 (खरीफ़ के सीजन में उपयुक्त)
  8. एग्रीफाउंड डार्क रेड (खरीफ़ के सीजन में उपयुक्त)

प्याज  की बुवाई

प्याज की बुवाई के लिए हमको एक क्यारी बनाकर उसकी गुड़ाई करके उसमें अच्छे से प्याज के बीज को बोना चाहिए और समय-समय पर पानी और खाद डालना चाहिए, जिससे पौधा अच्छा हो. ध्यान रहे, खेत में मिट्टी बिल्कुल महीन होनी चाहिए, तो प्याज उगने में आसानी होती है.

प्याज की रोपाई

जब प्याज का पौधा कुछ बड़ा हो जाए तो उसकी रोपाई करनी चाहिए. जिस खेत में प्याज को रोपना हो, उस खेत को अच्छे से साफ कर देना चाहिए, जिससे खेत में खर-पतवार ना हो और तत्पश्चात खेत की अच्छे से गुड़ाई करके तथा उसके खाद डालकर उसमें प्याज के पौधे को रोपना चाहिए. साथ ही समय-समय पर हमें उसकी सिंचाई करनी चाहिए.

फसल का संरक्षण

प्याज रोपने के बाद हमें प्याज का संरक्षण करने की ज़रुरत होती है. कोई भी रोग प्याज में दिखाई दे तो रोग के निवारण के लिए समय-समय पर दवा का छिड़काव करना चाहिए. साथ ही हमें जानवरों से खेतों की रक्षा करनी चाहिए.

प्याज की फसल की खुदाई 

प्याज की फसल जब तैयार हो जाए, तो प्याज की खुदाई कर लेनी चाहिए. प्याज की अच्छे से खुदाई करनी चाहिए, जिससे प्याज कही कटे नहीं. प्याज कट जाने से प्याज सड़ता है. अतः हमें प्याज की खुदाई अच्छे से करनी चाहिए, नहीं तो हमें काफी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है.

सच कहा जाए तो किसानी करना एक घाटे का सौदा माना जाता है, लेकिन किसान भाई प्याज तथा अन्य प्रकार की प्रोफेशनल खेती करके अच्छा लाभ कमा सकते हैं. 

इस सन्दर्भ में अगर आप का कोई प्रश्न हो तो कमेन्ट बॉक्स में लिखें अथवा हमें मेल करें.

प्रस्तुति - टीम आर्टिकल पीडिया



क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!

Web Title: Premium Hindi Content on onion farming, Pyaj ki Kheti ki Jaankari, Agriculture information in hindi

Post a comment

0 Comments