गर्भावस्था में 'इन' लक्षणों को 'गंभीरता' से लें!

मां बनना वह एहसास है, जिसे शब्दों में बयान कर पाना बहुत मुश्किल है। यह वह समय होता है जब हर औरत को अपने खास होने का एहसास होता है। चूंकि गर्भधारण के 9 महीने का समय बेहद नाजुक होता है, अतः इस दौरान माँ और बच्चे का विशेष ख्याल रखे जाने की आवश्यकता होती है।

यूं तो वक्त बदल गया है और मेडिकल साइंस काफी डिवेलप भी हो चुका है, फिर भी कुछ सावधानियां हैं जिन्हें मां बनने वाली हर महिला को ध्यान देने की जरूरत है। अगर इस मामले में लापरवाही हुई या इनको अनदेखा किया गया तो मां और शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए यह नकारात्मक हो सकता है।

Take Care During Pregnancy (Pic: lisbob)

उल्टी होना

प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षणों में उल्टी होने को बेहद सामान्य माना जाता है। इसको लेकर आम धारणा है कि यह सब को होता ही है और अपने आप ठीक भी हो जाता है। लेकिन अगर किसी महिला को बहुत ज्यादा उल्टी हो रही है और यह लगातार जारी है तो इसे लेकर लापरवाही नहीं करनी चाहिए।

आपको तुरंत अपनी गायिनी (डॉक्टर) से संपर्क करना चाहिए, क्योंकि लगातार उल्टी होने से मां के शरीर में वीकनेस की समस्या हो सकती है। जाहिर तौर पर कमजोरी मां और बच्चे दोनों के लिए नुकसानदेह होती है।

खून की कमी

प्रेगनेंसी के शुरुआती महीनों में ही आपके शरीर से सम्बंधित कई जांच / डायग्नोज़ कराए जाते हैं। अगर जाँच में आपके शरीर में खून की मात्रा कम होना पाया जाता है तो आप इसे लेकर बेहद सतर्क हो जाएं। डॉक्टरों द्वारा दी गयी दवाईयों और आयरन की गोली,निर्देश आदि को समय पर लें, उसका पालन करें। इसके अलावा फल और हरी सब्जियों को अपने खान-पान में शामिल कर अपने शरीर में खून की कमी को पूरी करें।

बच्चे की हलचल में कमी

कई बार ऐसा होता है कि कुछ घंटों से आपका बच्चा पेट में हलचल नहीं करता है तो इसको लेकर निश्चिंत ना हों! आप इस पर बारीक़ नजर बनाए रहें और अगर यह प्रक्रिया दो-तीन घंटे से ज्यादा की हो गई है तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

चूंकि बच्चे की मूवमेंट ना करने या कम करने की महत्वपूर्ण वजह यह हो सकता है कि आपके बच्चे को प्लेसेंटा से ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा हो! अगर बच्चे को ऑक्सीजन लेने में बाधा उत्पन्न हो रही है तो यह बेहद खतरनाक बात है। आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

पानी गिरना

गर्भावस्था के दौरान शरीर में तमाम तरह के परिवर्तन होते रहते हैं, जिससे हल्का-फुल्का स्राव आना नॉर्मल बात है। लेकिन अगर आपको लग रहा है कि आपके शरीर से पानी कुछ ज्यादा ही निकल रहा है तो आप तुरंत ही अपने डॉक्टर से संपर्क कर उसे स्थिति से अवगत कराएं। जन्म के समय से पहले पानी गिरना आपके होने वाले बच्चे के लिए सबसे ज्यादा नुकसान देने वाली स्थिति है।

डायरिया

अगर प्रेग्नेंसी के दौरान किसी भी महिला को डायरिया हो जाता है तो इसे लेकर बेहद सतर्क रहें, क्योंकि इससे शरीर में पानी की कमी हो सकती है जो माँ और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक है। इसके शुरूआती लक्षणों में ही आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

तो ये हैं वो सामान्य लक्षण जिन पर शुरू में ही ध्यान ना दिया गया तो यह माँ और उसके पेट में पल रहे बच्चे के लिए खतरा उत्पन्न कर सकता है। अतः किसी भी बात को अनदेखा न करें और यही एक जागरूक व्यक्ति का कर्तव्य भी है!
आप इस सन्दर्भ में क्या कहते हैं, कमेन्ट-बॉक्स में अवश्य बताएं!

क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!


Web Title: Premium Hindi Content on Pregnancy, Take Care During Pregnancy In Hindi

WordPress.com

Post a comment

0 Comments