ब्लॉग्स्पॉट वर्सेज वर्डप्रेस: कौन, किस कंडीशन में है बेहतर?

यह एक ऐसा प्रश्न है, जिससे ब्लॉगिंग शुरू करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को गुजरना ही पड़ता है। इस टॉपिक की शुरुआत इस बात से की जा सकती है कि दोनों ही ब्लॉगिंग दुनिया के बड़े नाम हैं और दोनों की ही अपनी खासियतें हैं।

मुद्दा यह होना चाहिए कि हमारी ज़रुरत क्या है, बजट क्या है, तकनीकी दक्षता क्या है और इस आधार पर हमें दोनों में से किसी एक का चयन करना चाहिए।

आइये क्रमवार देखते हैं दोनों की खूबियों और कमियों को-


Blogspot Vs. Wordpress, Which one is better? (Pic: wp...)

वर्डप्रेस - WordPress.com

यह बेहद पॉपुलर ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म है, बल्कि विश्व भर में सबसे ज्यादा। एक आंकड़े के अनुसार दुनिया भर की तकरीबन 34% वेबसाइट्स इस पर होस्टेड हैं।
हालाँकि, यह फ्री भी उपलब्ध है, लेकिन ओपन सोर्स के तौर पर अपना डोमेन भी ब्लॉगिंग के लिए यूज कर सकते हैं। एक बात यह भी है कि वर्ल्ड प्रेस की ऑनलाइन कम्युनिटी काफी समृद्ध एवं एक्टिव कम्युनिटी है, जो लगातार आपके सहयोग के लिए उपलब्ध रहती है।

पिछले 10 से अधिक सालों तक वेब डेवलपमेंट के क्षेत्र में कार्य करते हुए मैंने यह अनुभव किया है कि होस्टिंग की कॉस्ट और माइग्रेशन इस प्लेटफॉर्म को खर्चीला बनाती है।
अनुभव युक्त बात करें तो शेयर्ड होस्टिंग कम से कम 3000 रूपये सालाना की कॉस्ट वाली होती है, जिसमें बैंडविड्थ की प्रॉब्लम आपकी साइट को डाउन ही किये रहती है।
वहीं अगर वीपीएस (VPS) की तरफ जाते हैं तो इसकी कॉस्ट 50 हज़ार सालाना से अधिक हो सकती है।

ज़ाहिर तौर पर कुछ भी न खर्च करने वाले के लिए यह रकम अधिक है। इसके अतिरिक्त, वर्डप्रेस की सेल्फ-होस्टेड साइट पर ऑनलाइन अटैक भी काफी होते हैं और इससे निपटने के लिए आपको एक हद तक ही सही तकनीकी रूप से दक्ष होना पड़ता है। इस दक्षता में आप फाइल्स और डाटाबेस का बैकअप ले सकें, उसे पुनः रीस्टोर कर सकें, इतना आना चाहिए। हालाँकि, इनके लिए प्लग-इन ज़रूर उपलब्ध हैं, किन्तु उनमें से भी बेहतर और हैसल फ्री प्लग-इन पेड हैं।

अगर आप इतना नहीं कर पाते हैं तो किसी न किसी एजेंसी को हायर करके आपको यह सारे कार्य कराने पड़ते हैं और समझना मुश्किल नहीं है कि इसमें आपको कॉस्टिंग बढ़ती जाती है।

वहीं अगर वर्डप्रेस के फ्री वर्जन की बात करें तो उसमें विज्ञापन नहीं दिखा सकते हैं।

हाँ! अगर आपके पास सेल्फ-होस्टेड वर्डप्रेस चलाने का अनुभव नहीं है और ज्यादा पैसा भी खर्च नहीं करना चाहते हैं तो आपको खुद वर्डप्रेस.कॉम का ही होस्टिंग प्लान लेना चाहिए, जो अपेक्षाकृत कम खर्चीला और ज्यादा टिकाऊ है। वहां बैकअप लेने से सबंधित पर्याप्त सपोर्ट उपलब्ध है और जब तक आपकी साइट बड़ी नहीं हो जाती और फाइनेंशियली आप वीपीएस लेने की कंडीशन में नहीं आ जाते, तब तक आपको यहीं चलाना चाहिए।

ब्लॉग्स्पॉट - Blogger.com

अगर एक पंक्ति में इसका इंट्रोडक्शन करने को कहा जाए तो "ब्लॉगर बहुत ज्यादा सुविधाएं नहीं देता, मगर जितना देता है वह अपने आप में सॉलिड है।"

इसकी कमियों से शुरुआत करता हूँ।
ब्लॉगर की सबसे बड़ी कमी इसकी लिमिटेड कम्युनिटी है। इसके टूल्स पर, प्लगइन/ ऐड-ऑन पर न बहुत ज्यादा डेवलपमेंट दिखता है, न ही ज्यादा चर्चा होती है।
इसका नुक्सान यह होता है कि वर्डप्रेस या दूसरे प्लेटफॉर्म्स की तरह इसमें इनोवेशन का अभाव नज़र आता है।

दूसरी कमी इसकी डिज़ाइन से सम्बंधित है। वर्डप्रेस में जहाँ एक से बढ़कर एक थीम, उसके डेवलपर मिलेंगे, वहीं ब्लॉग्स्पॉट में यह बेहद लिमिटेड है। 2017 में गुरुग्राम में खुद गूगल द्वारा कराये गए एक प्रोडक्ट डेवलपमेंट सर्वे में मेरा जाना हुआ था और तब गूगल की टीम को यह बातें मैंने स्पष्ट ढंग से बतायी थीं। हालाँकि, इस बाबत उन्होंने कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की, बल्कि सिर्फ मेरा फीडबैक ही लिया था।

बहरहाल, इन दो कमियों को छोड़ दें तो इसके बड़े फायदे भी हैं, खासकर शुरूआती ब्लॉगर्स के लिए। इजी टू यूज इस प्लेटफॉर्म में को हैंडल करने के लिए आपको किसी विशिष्ट तकनीकी ज्ञान की ज़रुरत नहीं है, बल्कि बेहद हासन तरीके से आप अपने जीमेल अकाउंट के माध्यम से ब्लॉग्स्पॉट/ ब्लॉगर (https://www.blogger.com) पर लॉगइन कर सकते हैं।
तत्पश्चात आप अपना ब्लॉग बनाएं और सीधे ब्लॉगिंग शुरू करें। बेसिक डिज़ाइन और थीम्स भी आपको मिल जाएँगी, जो आपको शुरुआत के लिए आवश्यक होती हैं।
इस प्लेटफार्म पर बैकअप इत्यादि समस्याओं का आपको सामना नहीं करना पड़ता है, न ही अपने ब्लॉग पर विज्ञापन दिखाने से गूगल आपको रोकता है।
सबसे बड़ी बात यह है कि आपको एक पैसा गूगल को देने की ज़रुरत नहीं होती है, जबकि आपकी तमाम बेसिक जरूरतें पूरी होती हैं।

इन सबसे बड़ा फायदा होस्टिंग का है। वर्डप्रेस में जहाँ होस्टिंग पर आप हज़ारों खर्च करते हैं, वहीं ब्लॉगर पर यह कार्य फ्री होता है, साथ ही आपके ब्लॉग या साइट को डाउन टाइम का भी सामना नहीं करना पड़ता है। हैकर्स का भी इस प्लेटफॉर्म पर ना के बराबर अटैक होता है, क्योंकि गूगल की डायरेक्ट सिक्योरिटी में सेंध लगा पाना आसान नहीं है।

इतना ही नहीं, इस प्लेटफॉर्म पर आप अपना डोमेन आसानी से मैप कर सकते हैं।

हालांकि प्रोफेशनल ब्लॉगर्स गूगल के इस ब्लॉग्स्पॉट की बजाय वर्डप्रेस को अधिक पसंद करते हैं, किंतु गौर करने वाली बात यह भी है कि उनके पास खर्च करने के लिए एक अमाउंट होता है। साथ ही साथ उनको बेसिक टेक-नॉलेज भी होती है।

उम्मीद है कि इस लेख से आपको दोनों प्लेटफॉर्म को समझने में मदद मिलेगी। आपके लिए कौन सा प्लेटफॉर्म कितन उपयोगी है, यह आप स्वयं बड़ी आसानी से समझ सकते हैं।

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.


क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

**See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!


Web Title: Blogspot Vs. Wordpress, Which one is better, Technology Articles in Hindi

Post a comment

0 Comments