लॉन्ग टर्म ROI के बारे में सोचना जरूरी क्यों है?

सामान्यतः घर खरीदने में इन्वेस्टमेंट करने से बढ़कर कोई दूसरी इन्वेस्टमेंट नहीं मानी जाती है जो आपको 100 फीसदी निश्चिंतता के साथ एक बड़ा रिटर्न दे सके। अतः जब भी आप घर खरीदते हैं तो लांग टर्म रिटर्न का फैक्टर आप को अवश्य ही ध्यान में रखना चाहिए।

इसके लिए आवश्यक है कि आप घर का वास्तविक मूल्य पता करें। आपके बजट के हिसाब से बाजार में तरह-तरह की चीजें अवेलेबल हैं और आपको उस हिसाब से एनालिसिस करने की आवश्यकता होती है।

Long Term Investment in Real Estate (Pic: bigger...)

इसके लिए आपके पास जितने ऑप्शंस हैं, उनका सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करना जरूरी है। इसके लिए आपको किसी वैल्युएबल प्रोडक्ट खरीदने की तरह आगे बढ़ना चाहिए। सामान्य रूप से वैल्युएबल प्रॉपर्टी प्रोडक्ट में मुख्यतः तीन बातें हैं जो आपको किसी हाल में अनदेखा नहीं करना चाहिए।

प्रॉपर्टी की लोकेशन क्या है?

किसी भी प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त में लोकेशन सर्वाधिक इंपॉर्टेंट होती है और जब बात रिटर्न ऑफ इन्वेस्टमेंट की होती है तो निश्चित रूप से लोकेशन इसमें मेजर फैक्टर होता है।

लोकेशन में कई बातें इंक्लूड हो जाती हैं, मसलन जिस प्रॉपर्टी को आप खरीदने जा रहे हैं, वहां से पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम की दूरी क्या है? इसी प्रकार आने-जाने की सहूलियत और उससे आगे बढ़कर प्रकृति का सानिध्य इन मामलों में मजबूत रोल प्ले करता है।

लोकेशन एक ऐसी चीज है जो आने वाले समय में यह निश्चित करता है कि वह पर्टिकुलर लोकेशन की अहमियत कितनी रहने वाली है। जैसे कई बार ऐसा भी होता है कि पर्टिकुलर लोकेशन इकोनामिक जोन में कन्वर्ट हो जाता है या फिर वहां से कोई बड़ा कॉलेज, बड़ी फर्म के निर्माण की संभावना होती है और यह उस लोकेशन की अहमियत कई गुना बढ़ा देती है।

डेवलपर की ब्रांड वैल्यू

किस डेवलेपर द्वारा प्रोडक्ट डिवेलप किया गया है, यह एक बड़ा फैक्टर है। इसके पीछे डेवलपर की ब्रांड-वैल्यू ख़ास मायने रखती है और यह निच्शित करता है कि आपकी प्रॉपर्टी को बनाने में किस स्टैण्डर्ड का ध्यान किया गया है!
वस्तुतः इस एक फैक्टर से आपके इन्वेस्टमेंट की उम्र लंबी हो जाती है।

ज़ाहिर तौर पर अगर आपका डेवलपर विश्वसनीय है तो आपके प्रोडक्ट की वैल्यू बिना कहे ही बढ़ जाती है। अगर प्रॉपर्टी पुरानी भी है तो उसकी मेंटेनेंस यह बात सुनिश्चित करती है कि उसकी गुणवत्ता खराब ना हो, बल्कि उसकी कीमत बढ़े ही। आखिर तभी तो आपका 'लॉन्ग-टर्म' इन्वेस्टमेंट और उसी अनुपात में रिटर्न सार्थक कहला सकेगा!

फैसेलिटीज

तीसरा जो पॉइंट है वह है 'फैसेलिटीज' के मामले में आप का प्रोडक्ट किस लेवल पर टिकता है। फैसिलिटी एक ऐसा फैक्टर है जो किसी भी समय ग्राहक को आकर्षित करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चूंकि घर कोई रोज-रोज तो लेता नहीं है और ना ही कोई रोज-रोज बेचता ही है!
सच्चाई तो यह है कि फैसिलिटीज का सम्बन्ध आपके 'पीस ऑफ़ माइंड' से है।

इस बात में कोई शक ही नहीं है कि वर्तमान समय में सुविधाएँ आपके प्रोजेक्ट का बेहतर रिटर्न देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जैसे किसी प्रॉपर्टी के प्रोजेक्ट में स्विमिंग पूल, क्लब हाउस, चिल्ड्रन पार्क या फिर ऐसी दूसरी सुविधाएं उपलब्ध होती हैं तो निश्चित रूप से रेजिडेंशियल की कीमत कई गुना बढ़ जाती है।

लॉन्ग टर्म रिटर्न आफ इन्वेस्टमेंट के लिए आपको लंबे समय के लिए निवेश भी करना होता है। जाहिर तौर पर अगर आप शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट करते हैं तो उसमें बहुत बेहतर रिटर्न आने की गुंजाइश कम होती है। इसके अतिरिक्त आने वाले 5 साल या 10 साल में पार्टिकुलर लोकेशन की क्या अहमियत होगी, यह बात सजगता से ध्यान में रखनी चाहिए।

वैसे आपको क्या लगता है लॉन्ग-टर्म रिटर्न के लिए प्रॉपर्टी में इन्वेस्टमेंट का क्या क्राइटेरिया होना चाहिए? कमेंट-बॉक्स में अपने विचार अवश्य दर्ज करें।

क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!


Web Title: Long Term Investment in Real Estate, Hindi Article, ROI - Return of Investment

WordPress.com

Post a Comment

0 Comments