क्या है डायबिटीज और शरीर के किन अंगों के लिए है ज्यादा खतरनाक?

डायबिटीज यानि कि मधुमेह, जिसे आम बोलचाल की भाषा में शुगर भी कहा जाता है। यह बीमारी अनियंत्रित और अव्यवस्थित लाइफस्टाइल का परिणाम होती है। अत्यधिक तला-भुना और मीठा खाने की वजह से जब ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है, तब डायबिटीज नामक बीमारी हमारे शरीर में जन्म लेती है।

चूंकि ब्लड में शुगर लेवल बढ़ने के बाद इन्सुलिन की मात्रा शरीर में कम हो जाती है और तमाम समस्याएं यहीं से जन्म लेना शुरू करती हैं। एक बात जान लें कि अगर एक बार किसी मनुष्य को डायबिटीज हो गया तो फिर इसे भले ही नियंत्रित या कम किया जा सकता है लेकिन पूरी तरीके से मधुमेह को ठीक नहीं किया जा सकता। अतः 'सावधानी ही बचाव है' वाला फार्मूला बेहतर परिणाम दे सकता है।

मूलतः डायबिटीज दो प्रकार के होते हैं। पहला टाइप -1 डायबिटीज और दूसरा  टाइप -2 डायबिटीज

Diabetes Effect on body parts (Pic: createdigital)

टाइप -1 मधुमेह के मुकाबले टाइप -2 मधुमेह को बेहद खतरनाक माना जाता है। अगर किसी को टाइप वन डायबिटीज है तो उसके शरीर में इंसुलिन कम बनती है जिसे दवाइयों द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। मतलब आर्टिफिशियल इंसुलिन उसके बॉडी में प्रवेश कराकर उस रोगी को संभाला जा सकता है।

लेकिन अगर किसी को टाइप 2 मधुमेह हो गया है तो रोगी के शरीर में इंसुलिन बेहद कम मात्रा में बनती है या फिर जो इन्सुलिन बनता भी है तो उसे बॉडी ऑब्सर्ब नहीं कर पाता है अथवा उसकी बॉडी के साथ इंसुलिन बैलेंस नहीं हो पाता है।
वहीं टाइप -2 डायबिटीज में रोगी को बेहद सतर्कता के साथ और खान-पान में परहेज के साथ जीवन यापन करना पड़ता है। यह डायबिटीज बड़े उम्र के लोगों में ज्यादा देखने को मिलता है।

डायबिटीज होने के कारण

अगर डायबिटीज के मुख्य कारणों पर एक नजर दौड़ाएं तो आप पाएंगे कि जिन व्यक्तियों में हाई ब्लड प्रेशर लगातार बनी रहती है उनमें मधुमेह रोग होने के चांसेस बढ़ जाते हैं। इसके साथ ही यह अनुवांशिक भी हो सकता है।
इसके अतिरिक्त, अगर किसी की बॉडी पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बना रही है तो उन्हें भी डायबिटीज हो सकता है। आलसी लोग जो शारीरिक रूप से कम सक्रिय होते हैं तथा तनावपूर्ण जीवन जीते हैं, उन्हें भी मधुमेह होने का खतरा रहता है। उचित खानपान न लेने तथा शराब, ड्रग्स का अधिक सेवन करने से भी मधुमेह हो सकता है।

मधुमेह के लक्षण

मधुमेह के लक्षणों के बारे में अगर बात करें तो व्यक्ति को खूब भूख लगती है और उसे नींद भी बहुत ज्यादा आती है। हर वक्त शरीर थका-थका रहता है और बार-बार इंसान को प्यास लगती है तो पेशाब भी बार-बार लगता है। इसी प्रकार, अगर डायबिटीज वाले इंसान को फोड़ा - फुंसी हो गई हो तो उसे ठीक होने में बहुत लंबा समय लग जाता है। अगर मधुमेह ज्यादा है तो शरीर के कई हिस्से सुन्न महसूस होते हैं, आंखों से भी कम दिखाई देता है और वेट गिरने लग जाता है।

मधुमेह से शरीर के अंगों पर पड़ने वाला दुष्प्रभाव

किडनी

अगर किसी मरीज को डायबिटीज हो गया है तो उसके गुर्दे यानी कि किडनी में सर्वाधिक परेशानी होती है। कई बार तो इंसान की किडनी काम करना तक बंद कर देती है। लगातार उच्च रक्तचाप की समस्या मधुमेह के रोगियों को बनी ही रहती है।

हार्ट

मधुमेह रोगियों को हार्ट की समस्या भी होने की संभावना रहती है। इस दौरान मधुमेह के रोगी के हार्ट में किसी भी तरीके की हल्की सी भी परेशानी हो तो उसे इग्नोर नहीं करना चाहिए, बल्कि तुरंत ही डॉक्टर से दिखा कर दवाइयां लेनी चाहिए।

पैर

मधुमेह के रोगियों के पैरों में भी बेहद तकलीफ रहती है। पैर की नसें डैमेज हो जाती हैं तथा हल्की चोट भी मधुमेह रोगियों के पैरों को बर्दाश्त नहीं हो पाता है। इसीलिए अगर किसी डायबिटिक मरीज के पैर में दर्द हो, सूजन हो या फिर पैर जकड़ जाया करता हो तो इसे वह डॉक्टर को दिखाकर दवाई ज़रूर ले ले।

आंख 

आंखों पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। अगर आपको मधुमेह है तो आपको मोतियाबिंद होने की भी संभावना रहती है। लगातार आंखों के डॉक्टर से अपनी आंखों का चेकअप कराते रहें, क्योंकि किसी मरीज में डायबिटीज अगर खतरनाक लेवल पर पहुंच गया है तो ऐसे में मरीज के आंखों की रोशनी भी जा सकती है। अतः सर्वप्रथम डायबिटीज को नियंत्रित करें और अपने आंखों की देखभाल करते रहें।

ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा जो बीमार होना चाहता हो, मगर किसी बीमारी के चपेट अगर आप आ गए हैं तो घबराएं नहीं, बल्कि डॉक्टर से संपर्क करके इस समस्या को नियंत्रित करने की कोशिश करनी चाहिए। और हाँ! डॉक्टर की सलाह और उससे अधिक खुद नियम-संयम का पालन किसी भी बीमारी में काफी सहायक सिद्ध होता है।
अतः गिव-अप न करें।

आपकी नज़र में मधुमेह से बचने के और उपाय क्या हो सकते हैं, कमेन्ट-सेक्शन में ज़रूर बताएं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / डिजिटल प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !

** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!


Web Title: Diabetes-Effect-on-body-parts

WordPress.com

Post a comment

0 Comments