कैसे करें गुस्सा कंट्रोल, जानें जरूरी पॉइंट्स

Fixed Menu (yes/no)

कैसे करें गुस्सा कंट्रोल, जानें जरूरी पॉइंट्स

गुस्सा मनुष्य का स्वभाव है, और हम सभी जानते ही हैं कि गुस्से में ना केवल अपना नुकसान होता है, बल्कि कई बार हमेशा - हमेशा के लिए संबंध बिखर जाते हैं. 


आर्टिकल पीडिया ऐप इंस्टाल करें व 'काम का कंटेंट ' पढ़ें
https://play.google.com/store/apps/details?id=in.articlepedia


Impact of anger
इसके अलावा लोगों के अपने कैरियर में भी गुस्से का बेहद नकारात्मक (Negative impact of anger) असर पड़ता है, और इससे नौकरी और व्यापार दोनों में वह नुकसान उठाते हैं. इसके अलावा हमारा दिमाग भी अनियंत्रित हो जाता है, और अधिक क्रोध करने के कारण तमाम बीमारियां हमें होने लगती हैं, जैसे हार्ट की बीमारी, डायबिटीज, हाइपरटेंशन और दूसरी हेल्थ समस्याएं इत्यादि (Health issues and your anger.

क्रोध तो लगभग सभी को आता है, और एक बार ही नहीं, बल्कि जीवन के अलग-अलग पड़ावों पर, भिन्न भिन्न कारणों से कई-काई बार हम इसके शिकार बनते हैं. 

ऐसे में प्रश्न उठता है कि आखिर क्रोध को हम कैसे पहचानें और कैसे इसे शांत करें?

आइए जानते हैं...

गुस्से को पहचानिए
Recognize your anger symptoms

anger management tips in Hindi (Pic: mithilesh2020)


कहते हैं कि अगर किसी समस्या को आप पहचान लेते हैं, तो उसका सलूशन ढूंढने में काफी आसानी होती है. (Anger Management Tips in Hindi)

ऐसे में अगर आपको गुस्सा आ रहा है, तो उसके संकेतों को आपको पहचानना चाहिए. जैसे अगर आप उत्तेजित हो जायें, तो उत्तेजित होने के लक्षणों को आपको समझना चाहिए! कई बार गुस्सा आने से ठीक पहले, आपकी दिल की धड़कन कुछ तेज हो जाती है, या फिर कंधों में टेंशन के कारण कंपन होने लगता है, मुट्ठी भींचने लगती है, कई बार तो आप गुस्से से कांपने लगते हैं. 
ऐसे में जब यह संकेत आपका शरीर देने लगे, तो आप समझ लें कि आप गुस्से की ओर तेजी से बढ़ रहे हैं.


ऐसी स्थिति में अगर आप पहचान लेते हैं कि आप को गुस्सा आ रहा है, तो अपने दिमाग को झटक कर एक गहरी सांस लें (Breath deeply). अपने दिमाग को पूरी तरह से नियंत्रित रखें, और उसे विचलित ना होने दें, बल्कि विचार करते रहें. इसी कड़ी में अपने शरीर को थोड़ा घुमाएं और कंधा व गर्दन की मालिश करें. हो सके तो थोड़ा बहुत टहल भी (Walk for anger control) सकते हैं.

ज्यादा गुस्सा आने की स्थिति में आप एक से 10 तक गिनती भी गिन सकते हैं. फिर उसके बाद आप विचारशील होकर सोचें कि आपके गुस्सा आने के पीछे का वास्तविक कारण क्या है? अगर इन सारी चीजों से भी गुस्सा काबू में नहीं आता है, तो तत्काल आप उस स्थान से दूर हो जाएँ, क्योंकि अगर गुस्से में आप दूर नहीं होते हैं, तो वहां पर दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है (Stay away in anger to avoid accidents).

ऐसी स्थिति में आपको समाधान (Find solutions for your anger) ढूंढने की भी जरूरत होती है, क्योंकि प्रॉब्लम चाहे जैसी हो, चाहे पारिवारिक, चाहे सामाजिक हो, या फिर कैरियर संबंधी हो, अगर वह प्रॉब्लम सॉल्व नहीं होती है, उसका रास्ता नहीं मिलता है, तो क्रोध आना स्वाभाविक ही है, इसीलिए समाधान ढूंढने की तरफ अपना ध्यान केंद्रित करें.

दूसरी तरफ आप अपने गुस्से को एक्सप्रेस भी कर सकते हैं, क्योंकि कई बार गुस्सा दबाना खतरनाक माना जाता है. अगर आप गुस्से को अनियंत्रित रूप से दबाते हैं (Don't suppress your anger, always) तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है. इसीलिए पॉजिटिव ढंग से अपने गुस्से को व्यक्त करें.
जैसे आप गुस्से से निजात पाने के लिए एक पत्र लिख सकते हैं, या फिर आप कोई ऑडियो या वीडियो रिकॉर्ड करके उसे एक्सप्रेस कर सकते हैं. (Express your anger in positive manner)

अगर गुस्सा कई दिनों तक शांत नहीं हो रहा है, तो आप एक्सरसाइज (Exercises for anger management) कर सकते हैं, और इसे नियमित तौर पर आपको करना चाहिए. जैसे आप साइकिलिंग कर सकते हैं, मार्शल आर्ट, स्विमिंग इत्यादि करने से आपका ध्यान उस चीज से हटेगा, जो आपको गुस्सा दिला रही है.
इससे आपके मन में स्ट्रेस भी कम होता है और जब आप थक जाते हैं, तो आपको गुस्सा कम आता है. साथ ही अगर गुस्सा लंबे समय तक रहता है, और आप दिमाग उस पर से नहीं हटाते हैं, तो आपका चिड़चिड़ापन बढ़ जाता है. 

ऐसी स्थिति में आपको कुछ समय के लिए छुट्टी (Holiday) ले लेनी चाहिए, और उस परिस्थिति से अलग हटकर कुछ समय आपको खुद के साथ बिताना चाहिए, और ऐसी स्थिति में आप गुस्से से निजात पा सकते हैं.

Holiday, Tourism is best way for short term anger management (Pic: mithilesh2020)


पर्याप्त नींद लें और सकारात्मक रहें (Deep sleep and be positive)

एक्सपर्ट सलाह देते हैं कि तकरीबन 7 से 8 घंटे गहरी नींद में सोने से आपका गुस्सा एक हद तक कंट्रोल में आ सकता है, और आप अपनी फीलिंग को काबू कर सकते हैं.
जाहिर तौर पर अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, तो चिड़चिड़ापन उत्पन्न होने लगता है, और आपको खुशी नहीं मिलती है. 

यह जान लें कि पॉजिटिव रहने से आपका गुस्सा काफी हद तक दूर रहता है. किसी भी चीज को देखने के कई नजरिए होते हैं. कई बार नकारात्मक पक्ष देखने से आपका दिमाग क्रोध उत्पन्न करता है. वहीं सकारात्मक ढंग से देखने से आप खुद पर काफी हद तक नियंत्रण प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि तब तस्वीर का दूसरा पहलू आपको नजर आएगा.


Find reason of your anger (Symbolic Pic: mithilesh2020)


Comedy tips for anger management

अपने क्रोध पर नियंत्रण करने के लिए हास्य और कॉमेडी का सहारा ले सकते हैं. ऐसे कई लोग अपना अनुभव बताते हैं कि कोई कॉमेडी शो देखने से, या फिर कॉमेडी की कोई किताब देखने से, कॉमेडी फिल्में देखने से उनका तनाव दूर हो जाता है और उन्हें कम क्रोध आता है. इसके अलावा दोस्तों के बीच रहने से और सामाजिक बने रहने से भी आपका अकेलापन दूर होता है और आप क्रोध पर काफी हद तक नियंत्रण बनाए रख सकते हैं.


इसके अतिरिक्त अगर बारीकी में जाया जाए तो स्वयं के गुस्से के लेबल को मापना, और उसी हिसाब से खुद को तैयार करना, ध्यान लगाना, अगर आपके भीतर फ्रस्ट्रेशन है, तो उस फ्रस्ट्रेशन को दूर करना, ठीक से श्वास लेना, और शांत रहने का प्रयास करना, रिलैक्स करना इत्यादि Anger Management Therapy की कामयाब टेक्निक्स मानी जाती हैं. अगर इसमें आप खुद को असमर्थ पाते हैं, तो किसी सक्षम डॉक्टर से, मनो चिकित्सक से भी सलाह ले सकते हैं, और उसके बताए नियम कायदों को अपना सकते हैं.
यह बेहद सामान्य है और इसी के अनुरूप आप खुद को बेहतर बना सकते हैं. 

ध्यान रखिये, दुनिया को आप बहुत अधिक नहीं बदल सकते हैं, बल्कि खुद में बदलाव लाना आपका लक्ष्य होना चाहिए.

और जब कुछ भी समझ न आये तो यह समझें कि मनुष्य ईश्वर की सर्वोत्तम रचना है और दुनिया में ऐसी कोई समस्या नहीं है, जो मनुष्य के आत्म विश्वास से बड़ी हो!

आप भी हर समस्या को सुलझा सकते हैं, इसलिए खुद पर आत्विश्वास बनाए रखें, क्योंकि यही वह यंत्र है, जो आपको हर बुरी परिस्थिति से बाहर लेकर आएगी.

इस संबंध में आप क्या सोचते हैं?
कमेंट बॉक्स में अपना जवाब दें, अपने विचार लिखें, जिससे दूसरे लोगों को भी फायदा हो सके.

- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.



अस्वीकरण (Disclaimer): लेखों / विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी है. Article Pedia अपनी ओर से बेस्ट एडिटोरियल गाइडलाइन्स का पालन करता है. इसके बेहतरी के लिए आपके सुझावों का स्वागत है. हमें 99900 89080 पर अपने सुझाव व्हाट्सअप कर सकते हैं.
क्या आपको यह लेख पसंद आया ? अगर हां ! तो ऐसे ही यूनिक कंटेंट अपनी वेबसाइट / ऐप या दूसरे प्लेटफॉर्म हेतु तैयार करने के लिए हमसे संपर्क करें !
** See, which Industries we are covering for Premium Content Solutions!

Web Title: Premium Hindi Content on...




Post a comment

0 Comments